अखिर क्या है सीईओ?

0
10

आज के डिजिटल युग में सब काम ऑनलाइन होने लगे हैं। वही लोग खुद की प्रतिभा को भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए बड़े जनमानस तक पहुंचा रहे हैं। लेकिन अक्सर लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि ऐसा क्या करें कि हमारा कंटेंट वायरल हो. हमारे दर्शक बढ़े व्यूज़ बढे एक बड़े जनमानस तक हमारी पहुंच हो कभी-कभी ऐसा भी होता है कि आप कई सालों से इस क्षेत्र में कार्यरत हैं पर आपकी वेबसाइट को वो प्रसिद्धि नहीं मिल रही जो आप चाहते हैं। आपका कंटेंट वायरल नहीं हो रहा तो इसकी वजह सीईओ का प्रयोग ना है। करना अब आप पूछेंगे सीईओ का क्या काम है? इसका मतलब क्या होता है? किसी कंपनी की पोस्ट है? जब भी हम सीईओ शब्द सुनते हैं यह सवाल हमारे ज़हन में बार-बार आते हैं तो आइए जानते हैं कि क्या है सीईओ और इसका क्या कार्य है?

सीईओ का हिंदी में साधारण-सा शाब्दिक अर्थ है। सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन यह एक जरिया है जिसकी मदद से हम अपने कंटेंट को सर्च इंजन में शीर्ष पर ला सकते हैं।

 इस बात से हम सभी परिचित हैं कि गूगल सबसे ज्यादा उपयोग होने वाले एक सर्च इंजन है और भी कई सर्च इंजन प्लेटफॉर्म है पर गूगल आज के समय में सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। अब गूगल में अपने कंटेंट को सबसे ऊपर कैसे लाए. ऐसा क्या करें कि हमारे श्रोता और पाठक बड़े इसके लिए सीईओ सहायक युक्ति है। हम गूगल पर जाकर कई वर्ड टाइप करते हैं जो भी नतीजा हमारे सामने सर्च करने पर आता है वह सारा कंटेंट अलग-अलग वेबसाइट व ब्लॉग्स का होता है उन सभी कंटेंट में से जो कंटेंट सबसे शीर्ष पर होता है गूगल में नंबर 1 रैंक पर अपनी जगह बनाता है। इसका सारा श्रेय सीईओ हो जाता है इसका अर्थ है कि ब्लॉग में सीईओ का बहुत अच्छे तरीके से इस्तेमाल किया गया  है। जिससे कि ज्यादातर यूजर्स ने उस साइट पर विज़िट की और विजिटर्स बढ़ने के फलस्वरुप वह ब्लॉग गूगल पर नंबर 1 रैंक पर मशहूर हो गया और स्वाभाविक सी बात है कि नंबर एक पर दिखाई दे रहे कंटेंट को हम उत्सुकता वश ही सही सबसे पहले उस ब्लॉक को पढ़ने में रुचि दिखाते है।  

ब्लाग के लिए सीईओ क्यों है महत्वपूर्ण?

 मान लीजिए आप ने एक वेबसाइट बनाई आप लगातार उसमें अच्छे-अच्छे कंटेंट भी समय-समय पर पब्लिश कर रहे हैं लेकिन अगर आपने सीईओ का प्रयोग ठीक ढंग से नहीं किया या किया ही नहीं तो आपकी वेबसाइट लोगों तक नहीं पहुंच पाएगी और आपकी मेहनत भी व्यर्थ हो जाएगी अगर आप सीईओ का प्रयोग की ढंग से नहीं करते तो आप की वेबसाइट में यूजर्स के वर्ड्स रिलेटेड अगर कोई कंटेंट मौजूद भी हो तो यूजेर्स वेबसाइट की खोज नहीं कर पाएंगे और ना ही आप के कंटेंट को खोज पाएंगे। जिससे आपकी वेबसाइट में व्यूज बढने भी मुश्किल होंगे। हालांकि सीईओ को समझना ज्यादा कठिन नहीं है। यदि आप इसे सही तरीके से समझ ले तो आप अपने ब्लॉग और कंटेंट को गूगल पर शीर्ष पर स्थापित कर सकते हैं। परंतु इसका मतलब यह नहीं कि सीईओ का प्रयोग करते ही आपको परिणाम तुरंत मिल जाएंगे थोड़ा वक्त लगेगा पर परिणाम सकारात्मक आएंगे।

आईए अब समझते हैं सीईओ के प्रकारों को।

सीईओ दो प्रकार के होते हैं।

  • ऑन पेज सीईओ
  • ऑफ पेज सीईओ

जैसे नामों से भी थोड़ा-थोड़ा स्पष्ट होता है ऑन पेज सीईओ से तात्पर्य है कि आप अपनी वेबसाइट को सीईओ फ्रेंडली बनाकर  प्रस्तुत करें। सीईओ के नियमों का पालन करते हुए अपनी वेबसाइट में टेंपलेट का इस्तेमाल करना अच्छे कंटेंट लिखना और उनमें कीवर्ड्स का इस्तेमाल करना जो सर्च इंजन में सबसे ज्यादा खोजे जाते हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि आपकी वर्ड्स का इस्तेमाल पेज में सही जगह पर इस्तेमाल करने में आसानी हो किस विषय पर आधारित है ऑन पेज सीईओ करते समय वेबसाइट स्पीड, वैबसाइट नेविगेशन, टाइटल टैग पोस्ट, यूआरएल इंटरनेट लिंक, अल्ट टैग और कंटेंट हेडिंग और कीवर्ड्स का विशेष ध्यान रखें।

  • ऑफ पेज सीईओ

 ऑफ पेज सीईओ का प्रयोग ब्लॉग के बाहर होता है यानी इसके दौरान आपको अपने ब्लॉग का प्रमोशन करना होता है। इसका सरल तरीका यह भी है कि आप ब्लॉगों में जाकर उनके आर्टिकल पर कमेंट करें और अपने वेबसाइट के लिंक को सबमिट करें इसे डिक्लाइन कहते हैं। इस तरीके से आपकी वेबसाइट को बहुत लाभ पहुंचेगा कुछ और कोई छोटी-छोटी बातों पर काम करके भी आप अपनी वेबसाइट को शीर्ष पर ला सकते हैं।

इसके अलावा लोकल सीईओ भी एक प्रकार है नाम से ही इसका अर्थ स्पष्ट होता है लोकल सीईओ शब्द का अगर हम संधि-विच्छेद करें तो हम जानेंगे कि लोकल+सीईओ यानी किसी लोकल ऑडियंस को ध्यान में रखकर किया गया सीईओ। यदि आप केवल अपने ही किसी एरिया को ध्यान में रखकर अपनी साइट पर सीओ ऑप्टिमाइज करें तब भी यह लोकल सीईओ कहलाएगा।

सीईओ का प्रयोग आपको वेबसाइट की मार्केटिंग टूल की तरह लग रहा होगा पर नहीं सीईओ और इंटरनेट मार्केटिंग में सुई भर का अंतर है। सीओ एक प्रकार का टूल है हां यह कहना गलत नहीं सीईओ के प्रयोग से इंटरनेट मार्केटिंग करना आसान हो जाता है सीईओ का मुख्य उद्देश्य है कि आपका ब्लॉग वेबसाइट ठीक ढंग से ऑप्टिमाइज हो इसके लिए सीईओ का विशेष ध्यान रखा जाता है।

Previous articleRTGS क्या होता है? और कैसे काम करता है?
Next articleआखिर क्या है कंप्यूटर?
मेरा नाम अंजलि हे। मैं दिल्ली विश्वविद्यालय से पत्रकारिता की पढ़ाई कर रही हूँ। मुझे नए विषयों पर शोध करना और उन पर लेख लिखना पसंद है। इसलिए, मैं Go Articles वेबसाइट में बतौर लेखिका के रूप में लिख रही हूं ताकि आप भी इन नई तकनीकों और जानकारियों से अवगत हो सकें। आशा है आप हमारे लिखे लेखों को पसंद करेंगे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here